केंद्र में मंत्री का पद छोड़ा; लेकिन किसान आंदोलन में चर्चा में क्यों नहीं है अकाली दल

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ जाते हुए अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल ने छोड़ दिया था मंत्री पद

0
478
जगह - जगह पुलिस की भारी तैनाती

देश में नए कृषि कानूनों को लेकर पंजाब और हरियाणा के किसान सड़क पर हैं। हरियाणा और पंजाब से आगे निकलकर इस आंदोलन की तपिश पुरे देश में देखने को मिल रही है। पिछले कई दिनों से हरियाणा और पंजाब के किसान दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डरों पर डटे हुए हैं। उनकी माने तो जब तक केंद्र सरकार इस बिल को वापस ले नहीं लेता वो डटे रहेंगे। कृषि कानूनों के विरोध में एनडीए में भी फूट पड़ गई थी। जब उसके सहयोगी दल के मंत्री ने इस बिल के खिलाफ बोलते हुए अपना त्याग पत्र दे दिया था।

अकाली दल जो भाजपा से अलग होकर पंजाब में अपनी जमीन तलाश रही है। उसके प्रमुख प्रकाश सिंह बादल ने हरसिमरत कौर बादल के इस्तीफ़े को ऐतिहासिक बताते हुए इस फैसले को एक बड़ा त्याग बताया था। अकाली दल की इस कोशिश को पंजाब के कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों के प्रति नरम रुख अपनाकर मिटटी में मिला दिया।

कांग्रेस कर रही है किसानों का खुलकर समर्थन

किसानों के द्वारा किए जा रहे इस आंदोलन को कांग्रेस का खुलकर समर्थन मिल रहा है। कांग्रेस के तमाम बड़े नेताओं ने ट्वीट करके इस बिल का विरोध किया है। पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार कृषि से जुड़े अध्यादेशों के खिलाफ एक तरफ विधानसभा से प्रस्ताव पारित कर खुद को किसानों का हमदर्द बताने की कवायद पहले ही कर चुकी है और अब किसान आंदोलन के समर्थन में खुलकर खड़ी है।

पंजाब चुनाव में अब महज़ डेढ़ साल का समय बचा है ऐसे में अपनी राजनीतिक जमीन तलाश कर रही अकाली दल को अपनी रणनीति बदलनी होगी।