औद्योगिक श्रमिकों का उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (2016=100) –दिसंबर 2022

0
422

श्रम ब्यूरो, श्रम एवं रोज़गार मंत्रालय से संबंधित कार्यालय द्वारा हर महीने औद्योगिक श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक का संकलन सम्पूर्ण देश में फैले हुए 88 महत्वपूर्ण औद्योगिक केंद्रों के 317 बाजारों से एकत्रित खुदरा मूल्यों के आधार पर किया जाता है। सूचकांक का संकलन 88 औद्योगिक केंद्रों एवं अखिल भारत के लिए किया जाता है और आगामी महीने के अंतिम कार्यदिवस पर जारी किया जाता है। दिसंबर, 2022 के लिए सूचकांक इस प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जारी किया जा रहा है।

दिसंबर, 2022 का अखिल भारत उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (औद्योगिक श्रमिक) 0.2 अंक घटकर 132.3 (एक सौ बत्तीस दशमलव तीन) अंकों के स्तर पर संकलित हुआ। सूचकांक में पिछले माह की तुलना में 0.15 प्रतिशत की वृद्धि रही जबकि एक वर्ष पूर्व इन्हीं दो महीनों के बीच 0.24 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई थी।

सूचकांक में गिरावट में अधिकतम योगदान खाद्य एवं पेय समूह का रहा जिसने कुल बदलाव को 0.52 बिन्दु प्रतिशतता से प्रभावित किया। मदों में, गोभी, फूलगोभी, बैंगन, गाजर, प्याज, आलू, टमाटर, मटर, लहसुन, हरी मिर्च, सेब, संतरा, सूरजमुखी का तेल, वनस्पति तेल और पोल्ट्री/चिकन आदि सूचकांक में गिरावट के लिए जिम्मेदार हैं। हालांकि, इस कमी को चावल, गेहूं का आटा, गेहूं, गाय का दूध, ताजा मछली, अंडा-मुर्गी, सहजन, सूखी मिर्च, जीरा/जीरा, हल्दी, चाय की पत्ती, पका हुआ भोजन, ईएसआई योगदान, दवा एलोपैथिक और ट्यूशन और अन्य फीस स्कूल/आईटीआई आदि द्वारा नियंत्रित किया गया।

केंद्र स्तर पर, लखनऊ और नासिक प्रत्येक में 1.9 अंक की अधिकतम कमी दर्ज की गई। अन्य में, 19 केन्द्रों पर 1 से 1.8 अंक तथा 37 केन्द्रों पर 0.1 से 0.9 अंक की कमी दर्ज की गई। इसके विपरीत, फरीदाबाद में 3.3 अंकों की अधिकतम वृद्धि दर्ज की गई और उसके बाद क्रमशः नागपुर और तिरुनेवेली में 3.0 और 2.4 अंकों की वृद्धि दर्ज की गई। अन्य में, 4 केंद्रों में 1 से 1.7 अंकों के बीच और 21 केंद्रों पर 0.1 से 0.9 अंकों के बीच की वृद्धि दर्ज की गई। बाकी 2 केंद्रों के सूचकांक स्थिर रहे।

महीने के लिए साल-दर-साल मुद्रास्फीति पिछले महीने के 5.41 प्रतिशत और एक साल पहले इसी महीने के दौरान 5.56 प्रतिशत की तुलना में 5.50 प्रतिशत रही। इसी तरह, खाद्य मुद्रास्फीति पिछले महीने के 4.30 प्रतिशत और एक साल पहले इसी महीने के दौरान 5.93 प्रतिशत के मुकाबले 4.10 प्रतिशत रही।