Hug day: दिल से दिल नहीं मिलते, सिर्फ कंधा से कंधा टकराता है

0
471

तुम जब हग करती हो न तो दिल से दिल नहीं मिलते, सिर्फ कंधा से कंधा टकराता है। जैसे लगता है उल्कापिण्ड (Meteorite) पृथ्वी से टकराया हो… इसलिए आज हग डे पर मुझसे ऐसे गले लगना, कि जैसे एक बाप अपनी बेटी को विदा करते वक्त, एक मां मेले में खोये हुए अपने बच्चे से मिलते वक्त और एक सैनिक जंग पर जाते समय अपनी बीबी से लगता है।

sachin sarthak

Read it too- आखिर हम प्रपोज ही क्यों करते हैं ?