नितिन गडकरी ने कहा कि वाहन निर्माताओं को न्यूनतम किफायती मूल्य पर वाहनों में बुनियादी सुरक्षा सुविधाएँ प्रदान करनी चाहिए

0
647

नई दिल्ली : केन्‍द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री, नितिन गडकरी ने कहा है कि सामाजिक हितों को देखते हुए, ऑटोमोबाइल निर्माताओं को वाहनों में न्यूनतम किफायती कीमत पर बुनियादी सुरक्षा प्रदान करनी चाहिए। हाल के एक अध्ययन की ओर इशारा करते हुए जिसमें कहा गया है कि अगर हम सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों को रोकने में सफल होते हैं, तो हम प्रति व्यक्तिलगभग 90 लाख रुपये बचा सकते हैं। श्री गडकरी ने यह भी कहा कि यह जरूरी है कि ऑटोमोबाइल निर्माता सुरक्षा सुविधाओं को और बढ़ाएं। सड़क परिवहन मंत्री आज एनजीओ – सेव लाइफ फाउंडेशन के सहयोग से तैयार “ट्रैफिक क्रैश इंजरी एंड डिसएबिलिटीज: द बर्डन ऑन इंडिया सोसाइटी” शीर्षक से विश्व बैंक की रिपोर्ट जारी कर रहे थे।

मोटे तौर पर, रिपोर्ट कहती है कि सड़क दुर्घटनाएं समाज और राष्ट्र और राज्यों के लिए एक बहुत बड़ा बोझ हैं:

सड़क दुर्घटना से होने वाली मौतों और चोटों को कम करने से आय में वृद्धि हो सकती है
किफायती सड़क सुरक्षा कार्यों से लोक कल्याण संबंधी बड़ेलाभ प्राप्त किए जा सकते हैं
सड़क दुर्घटना से होने वाली मौतों और चोटों के कारण निम्न और मध्यम वर्ग के देशों में काम करने वाले वयस्कों की उम्र कम हो जाती है।
श्री गडकरी ने कहा कि सड़क दुर्घटनाएं भारत जैसे देशों में एक सार्वजनिक स्वास्थ्य मुद्दा और चुनौती है, और कहा कि उनके मंत्रालय ने सड़क सुरक्षा की मौतों को कम करने के लिए कई उपाय किए हैं, जिसे उन्होंने सड़क सुरक्षा में सुधार का “4ई” को कहा – इंजीनियरिंग, शिक्षा, प्रवर्तन और आपातकालीन देखभाल सेवाएं। मंत्री ने कहा कि सरकार विभिन्न परियोजनाओं पर विश्व बैंक के साथ काम कर रही है, जिनमें से एक सड़क दुर्घटना डेटाबेस आईआरएडी को सुव्यवस्थित करना है।

यह बताते हुए कि रिपोर्ट का एक महत्वपूर्ण निष्कर्ष यह है कि गरीब परिवारों में अमीरों की तुलना में दुर्घटना से होने वाली मौतों की संख्या दोगुनी है, श्री गडकरी ने कहा कि, सरकार के लिए, प्रत्येक मृत्यु अनमोल है, चाहे वह गरीब परिवार से हो या अमीर परिवार से हो। सड़क परिवहन मंत्री ने कहा कि संस्थागत सुधारकी बहुत आवश्यकता है, और एक सुव्यवस्थित और मजबूत और सुलभ कानूनी, बीमा और स्वास्थ्य सेवा इको सिस्‍टम का होना बहुत जरूरी है।

मंत्री ने कहा कि अतिसंवेदनशील सड़क का उपयोग करने वालों की सुरक्षा, कैशलेस उपचार, नागरिक और स्वास्थ्य अवसंरचना में सुधार, बीमा के प्रवेश और क्षतिपूर्ति तंत्र, पोस्ट-क्रैश प्रतिक्रिया इको सिस्‍टम और हितधारकों के एकीकरण की रिपोर्ट की सिफारिशों से मोटर वाहन संशोधन कानून 2019 और मोटर वाहन नियमों में संशोधन करने में मदद मिलेगी।

विश्व बैंक की रिपोर्ट तब आई है जब देश सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए पहले से विस्तारित “सड़क सुरक्षा माह” मना रहा है।


ये भी पढ़े : शिवसेना और राज्यपाल के बीच में तकरार बरकरार , अब उद्धव सरकार ने केंद्र से भगत सिंह कोश्यारी को वापस बुलाने की मांग


Subscribe to our channels on- Facebook & Twitter & LinkedIn & WhatsApp