चीन ने नैंसी पेलोसी पर लगाया प्रतिबंध, जापान ने चीन को “आग से ना खेलने” की दी चेतावनी

0
136

भले ही अमेरिका के निचले सदन की स्पीकर नैंसी पेलोसी ताइवान से वापस लौट चुकी हैं। लेकिन चीन की बौखलाहट खत्म होते नहीं दिख रहा है। एकतरफ जँहा चीन ने ताइवान के सीमा पर भयंकर युद्ध अभ्यास कर रहा है तो अब वहीं चीन ने नैंसी पेलोसी पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। चीन ने अमेरिकी राजदूत को भी तलब किया है। यह जानकारी चीनी विदेश मंत्रालय ने दिया है।

चीनी मीडिया ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, चीनी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को अमेरिकी हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी और उनके परिवार के सदस्यों को प्रतिबंधित करने की घोषणा की है क्योंकि उन्होंने चीन की गंभीर चिंता और दृढ़ विरोध की अवहेलना की और चीन के ताइवान क्षेत्र का दौरा करने पर जोर दिया। चीन के द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया कि, नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा चीन के आंतरिक मामलों में गंभीरता से हस्तक्षेप करता है, चीन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को कमजोर करता है, एक-चीन सिद्धांत को रौंदता है और ताइवान स्ट्रेट्स में शांति और स्थिरता के लिए खतरा है।

ताइवान के राष्ट्रपति साई इंग वेन ने भी चीन के द्वारा किये जा रहे सैन्य अभ्यास पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने चीन के द्वारा किये जा रहे सैन्य अभ्यास पर निगरानी करने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट करके कहा है कि “हमारी सरकार और सेना चीन के सैन्य अभ्यासों और सूचना युद्ध अभियानों की बारीकी से निगरानी कर रही है, जो आवश्यक रूप से जवाब देने के लिए तैयार है। मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय से लोकतांत्रिक ताइवान का समर्थन करने और क्षेत्रीय सुरक्षा की स्थिति में किसी भी तरह की वृद्धि को रोकने का आह्वान करता हूं।”

बता दें, ताइवान के सीमा के चारों तरफ से लगातार चीन सैन्य अभ्यास कर रहा है। चीन के जंगी हेलीकॉप्टर और फाइटर जेट्स लगातार ताइवान के हवाई क्षेत्र में गरज रही है। वहीं चीन के द्वारा अभ्यास में बैलेस्टिक मिसाइलें बड़ी संख्या में चलाई जा रही है। कुछ बैलेस्टिक मिसाइलें जापान के सीमा के अंदर गिड़ने की खबर है। जिसको लेकर जापान ने आपत्ति जताई है और साथ ही जापान के शीर्ष नेता ने चीन को चेतावनी दी है कि “चीन आग से ना खेले”। वहीं अमेरिका भी लगातार ताइवान के साथ होने का बात कह रहा है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here