मंच से गिरे हैं, हौसले से नहीं- हँसिए मत

0
679
राकेश टिकैत

जब किसान आंदोलन सुस्ता रहा था, लोग मायूस होकर घर लौट रहे थे, फिर किसान नेता राकेश टिकैत के आँखों से कुछ पानी जैसा गिरा। और इस आंदोलन को संजीवनी मिल गई। हम यह सब इसलिए बता रहें है कि अबकी बार आंसू की जगह खुद राकेश टिकैत मंच से गिर गए है। नए कृषि कानून का समर्थन कर रहे है, लोग खिल्लिया उड़ा रहे है। हम भारतीय के लिए यह नई बात नहीं है नेता भी कई बार गिर जाते है, पूरी की पूरी सरकारें गिर जाती है। इसलिए किसी के गिरने पर हँसिए नहीं…